आस पास
Trending

एसआईइटी यू. पी. व एडुलीडर्स यू. पी. द्वारा चंदौली आयोजित छटवां दिन का वेबिनार संपन्न हुआ,

ज्यादा जानकारी हेतु देखें यह पूरा पोस्ट,

रिपोर्ट संजय कुमार प्रजापति

चंदौली

एस.आई. टी. यू.पी व Edu leaders UP द्वारा चंदौली जिले में संचालित वेबीनार कार्यक्रम के छठे दिन के प्रथम सत्र के अतिथि *आजमगढ़ डाइट के प्रवक्ता आशुतोष श्रीवास्तव थे* जिन्होंने सर्वप्रथम शिक्षकों को धन्यवाद दिया । उन्होंने आज के शीर्षक *रुब्रिक्स और फीडबैक* पर अपने विचार प्रस्तुत किए । रुब्रिक्स क्या है ,उसके तत्व कौन कौन से हैं, इसका निर्माण किस प्रकार से होता है आदि बिंदुओं पर अपनी बात रखते हुए बताया कि सक्सेस क्राइटेरिया के मापन की जो दर है जो उसके तरीके हैं वही हमारा रुब्रिक्स होता है।

रुब्रिक्स विचार रखते हुए अपनी यह भी बताया कि बच्चे का आकलन बीच-बीच में करते रहना चाहिए जिससे यह पता चल सके कि वह सही जा रहा है कि नहीं ।साथ ही आकलन के तरीकों उसके प्रकार का चयन एवं किचन का भी जिक्र किया तथा इसके अंतर्गत उपयुक्त गतिविधियों में समस्या समाधान विधि को अपनाने पर जोर दिया । दूसरी अतिथि रही *आर्य महिला पीजी कॉलेज वाराणसी_ डिपार्टमेंट ऑफ साइकोलॉजी की असिस्टेंट प्रोफेसर “डॉक्टर विथिका अग्रवाल”* उन्होंने अपनी बातों की शुरुआत वर्तमान में फैली corona महामारी के कारण हमारे परिवार, हमारी शिक्षा व्यवस्था, व हमारे समाज पर पड़ते असर से की । ऐसे विषम समय में हमारे छात्रों की शिक्षा निरंतर अभिराम चलती रहे इसलिए हमने तकनीकी का जो सहारा लिया है उसे उचित ठहराते हुए डिस्टेंस लर्निंग के तहत वर्तमान समय में अनेक प्लेटफार्म उपलब्ध हैं जिनका उपयोग शिक्षक व छात्र आवश्यकतानुसार कर भी रहे हैं। ऑनलाइन कक्षा में परंपरागत कक्षा का माहौल तो नहीं पैदा किया जा सकता फिर भी जो कोशिश की जा रही है वह प्रशंसनीय है। ऑनलाइन शिक्षण में समस्याओं पर प्रकाश डालते हुए बताया कि जहां अधिकांश माता-पिता अपने बच्चे को संसाधन उपलब्ध नहीं करा पाते वहीं दूसरी ओर सभी शिक्षकों के पास ऑनलाइन शिक्षण के लिए संसाधनों की कमी है।बाल मनोविज्ञान को शिक्षकों के लिए जरूरी मानते हुए बताया कि जैसा कि हर बच्चे की परिस्थिति में फर्क होता है इसलिए ऑनलाइन टीचिंग के समय बच्चे को क्या समस्या आ सकती है शिक्षकों को इसका अंदाजा होना चाहिए ।आखिर में एक गहरी बात कही ऑनलाइन टीचिंग के समय में यदि एक दफा शिक्षक और छात्र सुविधाजनक स्थिति में आ जाए तो यह बहुत सकारात्मक बदलाव लाएगा ।सत्र का समापन माया सिंह और निशा सिंह के द्वारा अतिथियों को धन्यवाद ज्ञापित कर सत्र का अंत किया।

 

अगर पोस्ट अच्छा लगा तो ज्यादा से ज्यादा लोगों को शेयर भी करें और हमारे व्हाट्सएप ग्रुप और टेलीग्राम ग्रुप को ज्वाइन करें फेसबुक पेज को भी फॉलो करें ,

https://chat.whatsapp.com/GYrLR6bu5Oz72wV4lzoLAF

https://t.me/joinchat/JuFjjxsHt2T8oc7MzS3Edw

https://www.facebook.com/Up65-web-media-solution-private-limited-103852271295986

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button