यूनिवर्सिटी कैंपसशहर बनारसशिक्षा
Trending

कोरोना काल में 7 महीने बाद खुले कक्षा 9 से 12 तक के स्कूल, ऐसे चल रही क्लास 

अधिक जानकारी हेतु देखें यह पूरा पोस्ट

रिपोर्ट श्वेताभ सिंह

कोरोना काल में  7 महीने बाद खुले कक्षा 9 से 12 तक के स्कूल, ऐसे चल रही क्लास

 

वाराणसी। कोरोना काल में सभी शिक्षण संस्थान बंद कर दिए गए थे। ऐसे में छात्र ऑनलाइन क्लासेज़ कर रहे थे। अनलॉक और कोरोना एके रिकवरी प्रतिशत बढ़ने के बाद सरकार ने कक्षा 9 से 12 तक के स्कूल निश्चित गाइडलाइन के दायरे में खोलने की अनुमति दी थी, जिसके बाद सोमवार से शहर के स्कूलों में कक्षा 9 से 12 तक की पढ़ाई होती दिखी। 

इस दौरान कॉलेजों में छात्रों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग का ख़ास ख्याल रखा जा रहा है। इसके पहले कालेज की दीवारों पर लगे कोरोना से बचाव के पोस्टर को छात्र पढ़कर क्लास रूम में पूर्ण रूप से सेनीटाइज़ होने के बाद प्रवेश कर रहे हैं। स्कूल के गेट पर मुस्तैद कर्मचारी सबहि बच्चों के हाथ सेनेटाइज़ करवा रहे हैं साथ ही बच्चों की और कालेज आने वाले स्टाफ की थर्मल स्कैनिंग की जा रही है, तथा सभी को मास्क पहनने की हिदायत दी जा रही है। 

बता दें की शासन की गाइडलाइन के अनुसार एक दिन में सिर्फ 50 प्रतिशत बच्चे ही कक्ष में प्रवेश करेंगे। अगले दिन अगले 50 प्रतिशत बच्चों की कलस लगे जाएगी।  क्लास रूम में सीट की शेयरिंग नहीं होगी सबकी सेपरेट सीट होगी। इसके अलावा कालजे प्रबंधन को बच्चों को स्कूल लाने के सम्बन्ध में पहले अभिवावकों से सहमति लेनी होगी। 

शासन की गाइडलाइन के अनुसार ऑनलाइन क्लास बंद नहीं की जाएगी। सभी कालेज ऑनलाइन क्लास जारी रखेंगे। स्कूल प्रबंधन बच्चों पर स्कूल आने का दबाव नहीं बना सकता। बच्चे अपनी मर्ज़ी से घर पर रहकर पढ़ सकते हैं। 

स्कूल खुलने से बच्चों के चहरे पर भी रौनक लौटी है। स्कूल पहुँच रहे बच्चों के अनुसार 7 महीने से घर पर ऑनलाइन क्लास की पर अकसर नेटवर्क हमें क्लास से बाहर कर देता था। इसके अलावा हमारा माइक हमेशा बंद रहता था सिर्फ अटेंडेंस के लिए खोला जाता था। ऐसे में मन में कई सारे सवाल आकर भी नहीं पूछे जा सकते थे। अब जबकि स्कूल खुल गए हैं हम सवाल पूछ सकेंगे और अपनी जिज्ञासा शांत कर सकेंगे।

वही मंगलवार को नारिया स्थित बी.एन. एस इंग्लिश स्कूल के प्रधनाचार्य अखिलेश श्रीवास्तव ने बताया लॉकडाउन के समय से सरकार के द्वारा दिए दिशा-निर्देश पालन किया जा रहा है। सरकार के निर्देश के अनुसार ही पहले कक्षा “व्हाट्सएप्प के द्वारा ही कक्षाएं संचालन शुरू किया गया, उसके साथ ही वर्चुअल माध्यम से भी शुरू कर दी गई थी ।
कक्षाओं के दौरान कई समस्या सामने आई ,कई छात्र-छात्राएं ग्रामीण क्षेत्र से हैं जो कि वाराणसी शहर मैं हॉस्टल में रह कर पढ़ाई करते थे, लॉकडाउन के दौरान वो अपने गृह जनपद और ग्रामीण क्षेत्रों में हैं जहाँ मोबाइल नेटवर्क जैसी समस्या उनके सामने आ रही हैं, तो उस के लिए हमने शिक्षक व्हाट्सएप्प पर पी.डी.एफ फॉर्म के रूप में उन्हें उनके नंबर पे भेज दिया जा रहा था।
अगर किसी विद्यार्थी को वर्चुअल कक्षाएं चलते समय कोई दिक्कत या समझने में असमर्थ आ रही थी तो उस विषय के अध्यापक उन्हें अब उन्हें डॉक्यूमेंट मूड में “नोट्स ” दिया उपलब्ध कराया जाएगा ।

प्रधनाचार्य अखिलेश श्रीवास्तव ने बताया हर वर्ष स्कूल फीस में वृद्धि की जाती थी परन्तु इस वर्ष नहीं बढ़ाया गया हैं।
साथ ही साथ लप्रवेश शुल्क भी नही लिया जाएगा। इस वर्ष गाँधी जयंती के उपलक्ष पर स्कूल के पढ़ रहें कक्षा 1 से 8 तक के विद्यार्थियों को फ़ीस पर 35% छूट और कक्षा 9 से 12 तक के विद्यार्थियों के फीस में 25% छूट दी गई हैं ।

 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button