आयोजनप्रदेशराजनीतीशहर बनारस
Trending

प्रबुद्ध प्रकोष्ठ भाजपा काशी क्षेत्र एवं गुरुवारीय अड़ी परिवार द्वारा कोविड काल एवं ज्योतिष गणना पर हुई चर्चा

अधिक जानकारी हेतु देखें यह पूरा पोस्ट

रिपोर्ट श्वेताभ सिंह

प्रबुद्ध प्रकोष्ठ भाजपा काशी क्षेत्र एवं गुरुवारीय अड़ी परिवार द्वारा कोविड काल एवं ज्योतिष गणना पर हुई चर्चा

 

•मंगल की अनिष्टकारी दशा ने कोरोना महामारी का किया विस्तार : पं रामेश्वर ओझा

•मानवकृत अपराधों का प्रकृतिक न्याय है कोरोना महामारी : प्रो. विनय पांडेय

•चंद्रमा की महादशा की स्थिति महामारी का प्रबल कारक : पं हरेंद्र उपाध्याय

वाराणसी।भारतीय जनता पार्टी प्रबुद्ध प्रकोष्ठ व गुरूवारीय अड़ी परिवार की ओर से गुरूवारीय अड़ी की 36 वीं श्रंखला का आयोजन “कोविड काल व ज्योतिष गणना” विषय पर किया गया।
उक्त परिचर्चा दो सत्रो में विभक्त रही पहले सत्र में तीनों वक्ताओ ने विचार साझा किये और दूसरे सत्र में परिचर्चा में शामिल लोगों ने प्रश्नों के उत्तर प्राप्त किये ।
उक्त कार्यक्रम में वक्ता के रूप मे बोलते हुए महावीर पंचाग के सम्पादक व प्रख्यात ज्योतिषाचार्य पं रामेश्वर ओझा ने कहा की भारत की ज्योतिष गणना में ” संहिता ज्योतिष ” में आकाशीय परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए भविष्यवाणी की गई है ” मैं उसी को दृष्टिगत रखते हुए विषय को आगे बढा रहा हूंँ।वर्तमान कोरोना का कारण मंगल है, 13 अप्रैल से मंगल वर्ष का राजा एवं मंत्री है और इसी का प्रभाव है कि वर्ष की शुरुआत में ही इम्यूनिटी कमजोर है जो पुरे साल भर रहेगी। जिसके कारण महामारी और प्राकृतिक चुनौतियों की सम्भावना बलवती हुई है।
पं रामेश्वर ओझा ने कोरोना से मुक्ति के लिए देवोपासक चिकित्सा यानि हवन, हनुमान चालिसा, दुर्गा सप्तशती पाठ पर विस्तार पुर्वक प्रकाश डाला।
इस परिचर्चा में वक्ता के रूप में विचार व्यक्त करते हुए प्रख्यात ज्योतिषाचार्य व मां काली के उपासक पं हरेन्द्र उपाध्याय ने कहा की चन्द्रमा की महादशा से उत्पन्न परिस्थितिजन्य वातावरण ने महामारी व अन्य आपदाओं को विस्तारीत किया है चूंकि चन्द्रमा मन का प्रतिबिंब है इसलिए इसके प्रभाव सीधे मनुष्य के संरचना में हलचल उत्पन्न करते हैं। उन्होंने बहुत विस्तार से स्वतंत्रता पूर्व से लेकर अब तक के भारत के ग्रह दशा पर प्रकाश डाला ।
परिचर्चा में वक्ता के रूप में प्रो विनय पाण्डेय, (विभागाध्यक्ष ज्योतिष विभाग, बी एच यू) ने विचार व्यक्त करते हुए कहा की मनुष्य ने विलासी जीवन की कल्पना से प्रकृति के साथ जो दूरी स्थापित की है उसी का परिणाम कोरोना जैसी महामारी के रूप में सामने आता है, कोरोना महामारी का सामना हम धैर्य, संयम, विवेक,आस्था जैसे आत्मिक गुणों से कर सकते हैं वास्तव में यही हमारी इम्यूनिटी के प्रमुख स्रोत है ।
उपस्थित वक्ताओं ने कोरोना नियंत्रण हेतु प्रधानमंत्री जी द्वारा उठाये गये प्रयासों की भूरी-भूरी प्रशंसा की।
कार्यक्रम का संयोजन व संचालन भाजपा प्रबुद्ध प्रकोष्ठ क्षेत्रीय संयोजक
डॉ.सुनील मिश्र व धन्यवाद ज्ञापन विजय गुप्त ने किया ।
कार्यक्रम में प्रो अरविंद जोशी, पं वेदमूर्ति शास्त्री, डा रचना शर्मा , डा एस के घोषाल ने प्रश्न पूछे।
उक्त परिचर्चा में डा कमलेश झा, प्रो अरविंद पाण्डेय, नवरतन राठी, संतोष सोलापुरकर, गणपति यादव, सुनीता सिंह, पं श्रीकांत मिश्र, रतन मोर्य, विभूति मिश्रा सहित अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।यह जानकारी भाजपा काशी क्षेत्र के मीडिया प्रभारी नवरतन राठी ने दी।

 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button